नवादा में होलिका दहन और शब-ए-बारात शांति पूर्ण तरीके से मनाया गया

0
cyz
शब-ए-बारात-होलिका-दहन-नवादा
नवादा में होलिका दहन एवं शब-ए-बारात एक साथ मानते दोनों समुदाय के यूवक

अंसार नगर / नवादा (मो० वसीम अकरम)

शबबारात दो शब्दों, शब और बारात से मिलकर बना है, जहाँ शब का अर्थ रात होता है वहीं बारात का मतलब बरी होना होता है। … मुसलमानों के लिए यह रात बेहद फज़ीलत (महिमा) की रात मानीजाती है, इस दिन विश्व के सारे मुसलमान अल्लाह की इबादत करते हैं।

वे दुआएं मांगते हैं और अपने गुनाहों की तौबा करते हैं। पिछले साल किए गए कर्मों का लेखा-जोखा तैयार करने और आने वाले साल की तकदीर तय करने वाली इस रात को शब-ए-बरात कहा जाता है। इस रात को पूरी तरह इबादत में गुजारने की परंपरा है।

ऑक्सफ़ोर्ड-कॉलेज-नवादा

नमाज, तिलावत-ए-कुरआन, कब्रिस्तान की जियारत और हैसियत के मुताबिक खैरात करना इस रात के अहम काम है। 

इस प्रमुख पर्व शब-ए- बरात के मौके पर मुस्लिम बहुल क्षेत्रों में शानदार सजावट होती है तथा जल्से का एहतेमाम किया जाता है । रात्रि में मुस्लिम इलाकों में शब-ए-बरात की भरपूर रौनक होती है । शब-ए-बरात की रात शहर में कई स्थानों पर जलसों का आयोजन किया गया।

इस्लामी मान्यता के मुताबिक शब-ए-बरात की सारी रात इबादत और तिलावत का दौर चलता है। साथ ही इस रात मुस्लिम धर्मावलंबी अपने उन परिजनों, जो दुनिया से रूखसत हो चुके हैं, की मगफिरत (मोक्ष) की दुआएँ करने के लिए कब्रिस्तान भी जाते हैं। इस रात दान का भी खास महत्व बताया गया है।

जहां एक तरफ मुस्लिम समाज शबे बारात में अपने दोस्तों रिश्तेदारों के लिए दुआएं मांग रहा है और बेहतर आने वाले साल की कामना कर रहा है वहीं दूसरी तरफ हिंदू समाज भी होली का त्यौहार जोश और उल्लास के साथ मना रहा है और होलिका दहन मैं समाज की बुराइयों और क्रोना वायरस बीमारी को भी हमेशा के लिए जलने की कामना और प्रार्थना कर रहा है

बिहार मंथन की टीम ने स्थानीय लोगों से बात की जिसमें मिर्दाटोली से मोहम्मद आमिर ने बताया के दोनों धर्मों को लोगों को मिलजुल कर अपने त्योहारों को एक साथ एकता और अखंडता के साथ मनाना चाहिए तो वही अंसार नगर से मोहम्मद अली, शादाब मलिक और कमालपुर से दानिश ने बताया कि हम सब यही कामना करते हैं के दोनों समाज मिलजुल कर रहे और एक साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलें और एकता का प्रतीक बने,

उन्होंने यह भी कहा के हम शबे बारात की रात यह दुआ यह कामना करते हैं के कोरोन वायरस जैसी बीमारी इंडिया से ही नहीं पूरी दुनिया से हमेशा हमेशा के लिए खत्म हो जाए।

देवी स्थान गया रोड से विशाल, सनी और सुमित जी से भी वार्तालाप हुई और उन्होंने भी समाज में एकता से रहकर और मिलजुल कर एक दूसरे की खुशियों में शामिल होने का संदेश दिया और कहां के हमें नफरत से नहीं बल्कि मोहब्बत के साथ एक दूसरे के साथ रहना है हम उन्हें शबे बारात मुबारक और वह हमें होली मुबारक कहे और जिंदगी में खुशहाली लाने का प्रयास करते रहे।

इन दोनों त्योहारों को सफलतापूर्वक और शांति पूर्वक मनाने में नवादा प्रशासन का भी पूर्ण रूप से योगदान रहा और शाम से ही ड्यूटी पर तत्पर पुलिस कर्मचारी मार्च करते रहे और इस बात का पूरा ख्याल रखा के आपस में किसी भी तरह का भेदभाव ना हो और शांति पूर्वक रूप से होली और शब ए बारात मनाई जा सके। इस उपलब्धि के लिए नवादा प्रशासन बधाई के पात्र है और सराहनीय है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.