किसानों की फसलों के मूल्य निर्धारण का अधिकार किसानों को मिले

0
cyz

किसानों की फसलों के मूल्य निर्धारण का अधिकार किसानों को देने के लिए प्रधानमंत्री कानून बनाएं – सीमांचल के कद्दावर जदयू नेता राकेश कुमार

जदयू-नेता-राकेश-कुमार
फोटो – जदयू नेता सह पूर्णिया विश्वविद्द्यालय के सीनेट सदस्य राकेश कुमार

कहा- सरकारी अफसरों को जब खेती की लागत का ही पता नहीं तो फसलों का मूल्य निर्धारण करने का अधिकार क्यों ?

कहा – देश और किसानों के लिए यह दुर्भाग्यपूर्ण

सीमांचल / पूर्णिया (विशाल / पिन्टू / विकास ) ।

सीमांचल के पूर्णिया स्थित कद्दावर जदयू नेता एवं पूर्णिया विश्वविद्द्यालय के सीनेट सदस्य राकेश कुमार ने देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर सुझाव दिया है कि अविलंब देश के किसानों के हित में एक कानून बनाकर किसानों के द्वारा उत्पादित फसल का मूल्य निर्धारण करने का अधिकार किसानों को ही दिया जाय ।

प्रधानमंत्री को प्रेषित अपने पत्र में जदयू नेता राकेश कुमार ने कहा है कि किसानों को अपनी फसलों का मूल्य निर्धारण करने का अधिकार हर हालत में इस देश में मिलना चाहिए।

उन्होंने प्रधानमंत्री को प्रेषित पत्र में बड़ा एतराज जताते हुए कहा कि यह कैसी अजीबोगरीब बिडम्बना है कि जिन सरकारी अफसरानों को फसलों के उत्पादन की लागत का पता नहीं होता है उन सरकारी अफसरानों के द्वारा किसानों के फसलों का मूल्य निर्धारण किया जा रहा है।

उन्होंने पत्र के माध्यम से प्रधानमंत्री को अवगत कराया कि सिर्फ खेती करने वाले किसानों को ही पता रहता है कि उनकी फ़सलों का लागत क्या है और इस कारण उक्त फसलों का मूल्य निर्धारण करने का सीधा अधिकार उन्हें ही है।

सीमांचल के कद्दावर जदयू नेता राकेश कुमार ने प्रधानमंत्री से कहा है कि देश के किसानों के लिए कितना दुर्भाग्यपूर्ण है कि अभी तक सरकार ने किसानों की खुशहाली के लिए कोई सकारात्मक प्रयास नहीं किया है।

उन्होंने प्रधानमंत्री को अवगत कराया कि फसलों का उत्पादन मौषम और जलवायु के आधार पर होता है और हरेक फसल का लागत अलग अलग होता है , जो सिर्फ किसानों को ही पता होता है।

उन्होंने कहा कि देश के विकास में कृषि क्षेत्र का ही सबसे बड़ा योगदान रहा है , उद्योगपति से ज्यादा विकास दर कृषि क्षेत्र से स्थापित होता आया है। इसलिए सरकार को चाहिए कि वह सबसे पहले कृषि क्षेत्र को ही मजबूत करे और किस प्रकार किसानों की आय दर में बढोत्तरी हो , सरकार इसकी चिंता करे।

उन्होंने अपने पत्र के माध्यम से प्रधानमंत्री से स्पष्ट कह दिया है कि किसी भी परिस्थिति में देश के किसानों को खुशहाल किये विना देश को विकसित बनाने का सपना या विचार कदापि न्यायसंगत नहीं कहा जा सकता है।

जदयू के नेता सह पूर्णिया विश्वविद्द्यालय के सीनेट सदस्य राकेश कुमार ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से आग्रह किया है कि वे देश की खुशहाली के लिए अविलम्ब किसानों की फसलों का मूल्य निर्धारित करने का अधिकार कानून बनाकर किसानों को प्रदान करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.