विधायक शाहनवाज के घर परिवार पर हमले की घटना के आलोक में एमआईएम के सभी विधायकों की जोकीहाट में लगी जमघट

पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अख्तरूल ईमान ने कहा कि सीमांचल की 60 दशक पुराने राजनीति के गुरू अल्हाज़ तस्लीमुद्दीन की रूह को पहुंचे होंगे दुख, क्योंकि उनकी एकजुटता की सीख की धज्जियां उड़ाने की शुरुआत बेटे के हाथों हो गई

एमआईएम के सभी विधायकों की जोकीहाट में लगी जमघट
फोटो – एमआईएम के सभी विधायकों की जोकीहाट में लगी जमघट

सीमांचल/जोकीहाट ( अशोक / विशाल )।

जोकीहाट में एमआईएम के नवनिर्वाचित विधायक शाहनवाज आलम के पारिवारिक आवास पर शाहनवाज को निशाने पर लेकर शाहनवाज के पूर्व सांसद बड़े भाई और हालिया चुनाव में राजद प्रत्याशी के रूप में शाहनवाज के हाथों शिकस्ती खाये सरफराज़ आलम के द्वारा किये गए बीती 16 नवम्बर की रात के हमले को लेकर प्रदेश एमआईएम में भारी आक्रोश व्याप्त हुआ

यह भी पढ़े : जोकीहाट विधानसभा – चुनावी रंजिश में रिश्तों की मर्यादा को भूल भाई ने किया भाई पर हमला

और उस घटना के विरोध में सीमांचल से जीत हांसिल किये एमआईएम के पांचों विधायकों ने प्रदेश अध्यक्ष अख्तरूल ईमान के नेतृत्व में जोकीहाट कूच कर राजद को एमआईएम की एकजुटता का एहसास कराया गया।

एमआईएम विधायकों रूकनुद्दीन , अख्तरूल ईमान , इज़हार असफ़ी , अंजार नईमी और पीड़ित विधायक शाहनवाज ने जोकीहाट वासियों के समक्ष एमआईएम की एकजुटता पेश करते हुए जोकीहाट की राजनीतिक आवोहवा को गंदा करने की कोशिश करने वाले पूर्व राजद सांसद और हाल के विधानसभा चुनाव में एमआईएम के हाथों शिकस्ती झेलने वाले राजद प्रत्याशी सरफराज़ पर प्रशासनिक कार्रवाई की आवश्यकता पर भारी बल दिया गया।

जोकीहाट में एमआईएम की बिहार यूनिट ने अपने सभी विधायकों के साथ सिसौना गांव स्थित एमआईएम के जोकीहाट विधायक शाहनवाज के घर परिवार के साथ घटी घटना का जायजा लिया।

उस दौरान जुटी विशाल भीड़ के बीच आयोजित प्रेसकांफ्रेन्स को सम्बोधित करते हुए एमआईएम के विधायक एवं प्रदेश अध्यक्ष अख्तरूल ईमान ने कहा कि दोनो भाईयों के बीच बड़े भाई के द्वारा किये गए उक्त घटना की वजह से भले ही सरफराज़ साहब का या शाहनवाज का कुछ नुकसान नहीं हुआ हो , लेकिन , हमलोगों के राजनीतिक गुरू अल्हाज़ तस्लीमुद्दीन साहब की रूह को बेहद दुःख हुआ होगा।

उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों की जीत हार का फैसला सीधे जनता के द्वारा किया जाता है और न ही उसमें लाठी , डंडे , बारूद , बंदूक , बाहुबल , धन पैसों की कोई अहमियत होती है और न ही सत्ता की ।

एमआईएम के प्रदेश अध्यक्ष अख्तरूल ईमान ने मीडिया के जरिये सन्देश दिया कि जिस सीमांचलवासी को एकजुटता की राजनीतिक पाठ सीमांचल गांधी जनाब तस्लीमुद्दीन ने सिखाया था , आज उसी महान हस्ती के बेटे के द्वारा उनके किये कराये पर पानी फिराने का काम घर और परिवार के बीच से ही शुरू किया जाय तो वह बेहद दुखदाई और शर्मनाक हरकत ही कही जा सकती है।

उन्होंने कहा कि सरफराज़ साहब को बड़े मुक़ाम दिये गए थे , जिसे हांसिल कराने में छोटे भाई शाहनवाज ने भी जी जान से मेहनत की थी और इस बार बड़े भाई को छोटे भाई की मददगार के रूप में आगे बढ़कर आना चाहिए था लेकिन ऐसा नहीं करके उन्होंने ऐसी शर्मनाक हरकत करने का काम कर दिया , जिससे सम्पूर्ण जोकीहाट विधानसभा क्षेत्र को ही शर्मसार होना पड़ गया है।

उन्होंने कहा कि अब भी बक्त है कि पारिवारिक माहौल को सुंदर शांत बनाने की कोशिश हो।

यह भी पढ़े : स्व०तस्लीमुद्दीन की विधवा अख़्तरी बेगम ने दोनों भाइयों से आपसी सुलह की कर दी अपील

एक सवाल के जबाब में उन्होंने कहा कि बीती घटना की जांच करने के बाद प्रशासन द्वारा क्या एक्शन किये जाने वाले हैं , यह प्रशासन के जिम्मे की बात है।

एमआईएम विधायक शाहनवाज फैमिली व घर पर हुई हमले की घटना के आलोक में एक साथ जोकीहाट की सरजमीं पर उतरे एमआईएम के विधायकों की टोली और सहयोगियों के जमावड़े से दिन भर जोकीहाट की फिंजा में राजनीतिक धूल कण उड़ते रहे और प्रशासनिक तंत्रों को चौकस देखा गया।