टिकट-की-खातिर-उठापटकसिमांचल-में-राजनेताओं-की-श्रृंखलाबद्ध-मौतराजकुमार-चौधरी-रघुवंश-बाबु-को-श्रधांजली-देते
हज-से-एक-भी-कोरोना-केस-नही-आया

हज से एक भी कोरोना केस नही आया, सऊदी अरब में ख़ुशी की लहर

कोरोना काल में जारी हज यात्रा लगभग मुकम्मल, अब तक नहीं आया कोई कोरोना केस का मामला, आधिकारिक वेबसाइड ने की खबर की पुष्टी

हज-से-एक-भी-कोरोना-केस-नही-आया
फोटो – हज में नहीं हुआ कोई भी कोरोना से ग्रसित , पुरे सऊदी अरब में ख़ुशी की लहर

(जमील इब्राहिमी) कोरोनाकाल में बेहद सख्त नियमों के तहत जारी की गई हज यात्रा लगभग मुकम्मल हो गई और एक भी कोरोनावायरस का केस सामने नहीं आया। ऐसे में जहां एक ओर लोगों ने राहत की सांस ली, तो वहीं दूसरी ओर लोगों का डर भी शांत हो गया है।

गौरतलब है कि हाजी हज के चौथे दिन रमी करने के लिए जमरात के पुल पर वापिस लौट आए हैं हज समाप्त हो रहा है और पवित्र स्थानों पर कोरोना वायरस का कोई मामला सामने नहीं आया है। बता दे इस बात का खुलासा अरब न्यूज़ के हवाले से किया गया है। अरब न्यूज के अनुसार, तीर्थयात्रियों की स्वास्थ्य स्थिति संतोषजनक बनी हुई थी और इस बार हज के दौरान सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या नहीं थी।

वहीं इस मामले पर डॉ. अमानी अल-सादी, जो हज के दौरान अपनी सेवाएं दे रहे हैं, ने वहां के आधिकारिक न्यूज़ चैनल को बताया कि हज यात्रियों की स्वास्थ्य स्थिति की निगरानी उनके निवास से दिन के अंत में लौटने तक की गई थी। संपर्क बनाए रखने के लिए, बसों को प्रत्येक तीर्थयात्रियों के लिए आरक्षित किया गया था और प्रत्येक आवासीय परिसर में एक क्लिनिक स्थापित किया गया था, जहाँ डॉक्टर तीर्थयात्रियों की जाँच करेंगे और उन्हें आवश्यक दवाएँ प्रदान करेंगे।

इंडोनेशिया की एक महिला फरीदा भी इस साल हज करने वालों में शामिल हैं। वह कहते हैं कि वह विश्वास नहीं कर सकते कि उन्हें हज के लिए चुना गया था। हज करने के लिए खुशी और आभार व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा, “सऊदी अरब छोड़ने से पहले यह मेरे लिए अल्लाह सुभानहु ताला की तरफ़ नियमत है।

हज की व्यवस्था के बारे में फरीदा ने सऊदी के हज मंत्रालय और स्वास्थ्य मंत्रालय की प्रशंसा की और सुव्यवस्थित हज के लिए उन्हें धन्यवाद दिया। साथ ही लोगों से नियमों का पालन करने और स्वास्थ्य संबंधी एहतियात बरतने पर तारीफ की है।