टिकट-की-खातिर-उठापटकसिमांचल-में-राजनेताओं-की-श्रृंखलाबद्ध-मौतराजकुमार-चौधरी-रघुवंश-बाबु-को-श्रधांजली-देते
जोकीहाट-के-राजद-विधायक-शाहनवाज-आलम

फुल टर्म तक सेवा का अवसर मिलने पर सिमांचल गाँधी की तरह सरकारों से लड़ कर बाढ़ से हर साल बचाऊंगा

पूरे 5 साल की टर्म तक सेवा का अवसर मिलने पर सावित कर दूंगा कि मैं स्वर्गीय सीमांचल गांधी तस्लीमुद्दीन के पद चिन्हों पर चलने वाला तस्लीमुद्दीन का राजनीतिक धरोहर हूं

जोकीहाट-के-राजद-विधायक-शाहनवाज-आलम
फोटो – विधायक शाहनवाज ने कहा की 5 साल की टर्म तक सेवा का अवसर मिलने पर सिमांचल गाँधी की तरह सरकारों से लड़ झगड़ कर बाढ़ से निजाद दिलाऊंगा

सीमांचल ( अशोक / विशाल ) ।

  • जोकीहाट के राजद विधायक शाहनवाज ने किये दावे कि बाप की तर्ज़ पर राजनीतिक अमलीजामा पहन महानन्दा बेसिन योजना के कार्यों में गति लाने के लिए सरकार को वाध्य करेंगे

सीमांचल गांधी के रूप में जीवन भर ख्यात रहे स्व० तस्लीमुद्दीन के धरोहर के रूप में राजद के बैनर तले अररिया जिले के जोकीहाट विधानसभा क्षेत्र से उप चुनाव में विधायक निर्वाचित हुए स्व० तस्लीमुद्दीन के छोटे पुत्र शाहनवाज आलम पूरे 5 साल की टर्म तक जनता की सेवा का अवसर चाहते हैं ताकि वह अपने स्वर्गवासी पिता के पदचिन्हों पर चलते हुए सीमांचलवासियों के लिए दूसरे तस्लीमुद्दीन के रूप में उभरकर सामने आ सकें।

सीमांचल की आम जनता से इस मद में दुआ की अपील करते हुए उन्होंने दावा किया कि जिस तरह उनके स्वर्गवासी पिता ने केन्द्र और राज्य की सरकारों से लड़ झगड़ कर सीमांचल को बाढ़ की सालाना विभीषिका से बचाने के लिए महानन्दा बेसिन योजना को स्वीकृति प्रदान कराकर सीमांचल पर उतारने का काम किया था

उसी प्रकार वह इस बार की फूल टर्म वाले जनादेश को पाने के बाद उक्त योजना के कार्यान्वयन को प्रथम प्राथमिकता के रूप में गति दिलाने का काम करेंगे।

इस संवाददाता के साथ एक मुलाकात के दौरान बातचीत करते हुए राजद विधायक शाहनवाज आलम ने कहा कि वह अपने आप मे हैरान हैं कि आखिर भाजपा के साथ गलबहियां निभाने वाले उस नीतीश कुमार की ओर उनके वैसे परिजन क्यों आकर्षित होते रहते हैं जिन्हें सत्ता धारी कुर्सी पर ही बैठने की ललक रही है।

उन्होंने स्पष्ट विचार प्रकट किया कि जिस मुख्यमंत्री ने 15 वर्षों के शासन काल में सीमांचल का सर्वाधिक भ्रमण कर सीमांचल की सारी समस्याओं को व्यक्तिगत रूप में भी बुझ समझ लिया है , उस मुख्यमंत्री ने सीमांचल की उपेक्षा करने की राजनीति आखिर क्यों की और उस पर तुर्रा यह कि इस मुख्यमंत्री ने ही बिहार में नागरिकता कानून की स्वीकृति दे कर सीमांचल के लोगों की धड़कनें बढ़ा दी।

उन्होंने कहा कि चूंकि वह उप चुनाव की बाजी मार कर अल्पावधि के लिए विधायक बने थे तो वह अपने पिता की भांति के राजनैतिक मैरिट को दर्शाने की हिम्मत नहीं किये।

लेकिन अब आने वाले विधानसभा चुनाव में अगर उन्हें फूल टर्म के लिए जनता का जनादेश मिल जायेगा तो वह सीमांचलवासियों को दिखा देंगे कि वह स्वर्गवासी पिता सह सीमांचल गांधी के पदचिन्हों पर चलने वाले तस्लीमुद्दीन पुत्र हैं।

विधायक शाहनवाज आलम के अनुसार जनता के बीच फिल्ड में वह लगातार जनसम्पर्क कायम रख रहे हैं और जनता की ओर से भी उन्हें पूरे तौर पर तबज्जो दिये जा रहे हैं