रोज़ेदारों के रोज़े खाली नहीं जाएंगे –किशनगंज एसपी

किशनगंज-के-पुलिस-अधीक्षक-कुमार-आशीष
फोटो – किशनगंज कुमार आशीष एवं उनकी टीम के मानवतावादी कार्यों की तस्वीर

सीमांचल- (विशाल के साथ शम्स) ।

किशनगंज के पुलिस अधीक्षक कुमार आशीष के आदेश पर लॉकबन्दी के दौरान लगातार किशनगंज पुलिस द्वारा मानवता की हिफाज़त के लिए बेहतरीन कदम उठाए जा रहे है, फिर चाहे राशन बांटने का हो, पका हुआ भोजन उपलब्ध कराना हो, दूरस्थ ग्रामीण इलाकों के जरूरतमन्दों को दवाई तथा एम्बुलेंस सेवा देना हो, प्रवासी श्रमवीरों को आर्थिक सहायता देनी हो,  उनका इस्तेकबाल किशनगंज के बॉर्डर पर करना हो या लाचार और जरूरतमन्दों को रोज़े खोलने के लिए इफ़्तार का सामान मुहैय्या करना हो…

जी हां, किशनगंज पुलिस ने आवाम का दिल जीतने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। इसकी बानगी आज फिर देखने को मिली जब पुलिस अधीक्षक कुमार आशीष को गुप्त सूचना प्राप्त हुई जिसमें रामपुर, खगड़ा के कुछ रोज़ेदार परिवारों की मुफ़लिसी की चर्चा थी।

तुरंत एसपी के निर्देश पर एसडीपीओ जावेद अंसारी,  सार्जेंट मेजर सुनील पासवान, सर्किल इंस्पेक्टर इरशाद आलम तथा थानाध्यक्ष श्याम किशोर की टीम ने स्थानीय रामपुर खगड़ा के पास रेलवे गुमटी की झुग्गी बस्तियों में अत्यंत जरूरतमन्द करीब 60-70 व्यक्तियों को इफ्तार की सामग्री एवं दैनिक उपभोग का सामान भी भेंट किया।

इफ्तार के लिए खजूर, फल,  मेवे, नमकीन के साथ रूह अफज़ा शर्बत भी था वहीं उनके रोज़मर्रा के उपयोग लिए आटा चावल दाल इत्यादि का राशन पैकेट भी दिया गया। किशनगंज पुलिस के सामाजिक कार्यों की गूंज देश विदेश में भी सुनाई दे रही है।

अभी पिछले ही हफ्ते मुम्बई के अखबारों में भी एसपी किशनगंज कुमार आशीष एवं उनकी टीम के मानवतावादी कार्यों की विस्तृत चर्चा छपी थी। पिछले 2 महीने के लॉक डाउन की विकट परिस्थितियों में लगातार सेवा एवं सामाजिक कार्यों से किशनगंज पुलिस ने यकीनन नई ऊंचाइयों को छुआ है।पुलिसिंग का चेहरा बदला है और पुलिस में आम लोगों का भरोसा भी बढ़ा है।