लॉ कालेज के गेट से उर्दू को हटाना मिथिला की संस्कृति पर हमला- बेदारी कारवां

सी-एम-लॉ-कॉलेज-दरभंगा-नज़रे-आलम
फोटो – ऑल इंडिया मुस्लिम बेदारी कारवां के अध्यक्ष नजरे आलम ने मिथिला विश्वविद्यालय के कुलपति, मुख्यमंत्री एवं डीएम को ज्ञापन देकर उर्दू बोर्ड हटाने वाले कॉलेज प्रशासन पर करवाई की मांग

बेदारी कारवां ने मुख्यमंत्री, डीएम व कुलपति को आवेदन लिखकर पुनः उर्दू बोर्ड लगाने रखी मांग

(अब्दुल खालिक़ क़ासमी)

दरभंगा सीएम लॉ कॉलेज प्रशासन द्वारा उर्दू बोर्ड हटाने के खिलाफ लगातार मामला बढ़ रहा है। आज ऑल इंडिया मुस्लिम बेदारी कारवां के अध्यक्ष नजरे आलम ने मिथिला विश्वविद्यालय के कुलपति, मुख्यमंत्री एवं डीएम को ज्ञापन देकर उर्दू बोर्ड हटाने वाले कॉलेज प्रशासन पर करवाई की मांग की है।

श्री आलम ने आवेदन में दर्शाया है कि लॉ कॉलेज के प्रिंसिपल ने भाजपा व विद्यार्थी परिषद के इशारे पर उर्दू बोर्ड को हटाकर मिथिला की संस्कृति पर हमला‌ किया है। उर्दू राज्य की दूसरी सरकारी भाषा है, ऐसे में बोर्ड पर से उर्दू को हटाना राज्य भाषा का अपमान है। इस अपमान का बदला मिथिलावासी जरूर लेंगे। 19 मई, 2020 से कालेज से प्रिंसिपल फरार है और फोन‌ भी उठाना बंद कर दिया है। प्रिंसिपल पर गैर कानूनी ढंग से उर्दू बोर्ड हटाने और राज्य की दूसरी सरकारी भाषा के अपमान के खिलाफ नगर थाना में प्राथमिकी दर्ज करने के लिए आवेदन दिया गया है।

श्री आलम ने कहा कि लॉ कॉलेज के प्राचार्य भाजपा-एबीभिपी के इशारे पर आज सीएम लॉ कॉलेज को बदनाम करने और साम्प्रदायिकता फैलाने का‌ काम किया है। अगर बोर्ड नहीं लगा तो चरनबद्ध आन्दोलन भी करेंगे।