खाद बीज व्यवसायियों एवं पूर्णिया कृषि पदाधिकारी के झगडे में पिसते किसान, प्रशासन निकाले समाधान

खाद बीज व्यवसायियों और जिला कृषि पदाधिकारी के बीच घटी घटना के आलोक में किसानों को पीसने से बचाने का रास्ता निकाले जिला प्रशासन – प्रोफेसर अलोक यादव

बहुजन-क्रांति-मोर्चा-के-प्रमंडलीय-प्रभारी-सह-राजद-नेता-प्रोफेसर-आलोक-कुमार
फोटो – बहुजन क्रांति मोर्चा के प्रमंडलीय प्रभारी व राजद नेता प्रोफेसर आलोक यादव ने की डीएम से मांग कहा खरीफ़ फसल की बुआई पड़ गई है खतरे में और किसान हो रहे हैं परेशान

बहुजन क्रांति मोर्चा के प्रमंडलीय प्रभारी व राजद नेता आलोक यादव ने की डीएम से मांग कहा खरीफ़ फसल की बुआई पड़ गई है खतरे में और किसान हो रहे हैं परेशान

सीमांचल से अशोक / विशाल की रिपोर्ट ।

बहुजन क्रांति मोर्चा के प्रमंडलीय प्रभारी सह राजद के वरिष्ठ नेता प्रोफेसर आलोक कुमार ने पूर्णिया जिले के जिला कृषि पदाधिकारी और गुलाबबाग के थोक खाद बीज व्यवसायियों के बीच उत्पन्न विवाद के बीच खाद बीज व्यवसायियों की हड़ताल के कारण पूर्णिया जिले के किसानों को हो रही परेशानी को दूर करने के लिए पूर्णिया के जिलापदाधिकारी से ऐसी व्यवस्था बहाल करने की मांग की है जिसके तहत किसानों को खरीफ़ फसल की खेती के लिए पर्याप्त खाद बीज की थोक व  खुदरा प्राप्ति सुलभता पूर्वक होती रहे, किसानों को किसी तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़े ।

उन्होंने यहां जारी अपने बयान के जरिये जिला प्रशासन से कहा है कि जिला कृषि पदाधिकारी द्वारा दुकानदारों से भया दोहन करने एवं झूठे मुकदमे में फंसाकर व्यवसायियों को  अपमानित करने  के आरोप जो जिला कृषि पदाधिकारी पर व्यवसायियों ने लगाया है अथवा व्यवसायियों पर सरकारी कामकाज में बाधा उत्पन्न करने व पदाधिकारी को बंधक बनाने का आरोप जो जिला कृषि पदाधिकारी की ओर से व्यवसायियों पर लगाया गया है , उसकी सच्चाई की जांच करके दूध का दूध और पानी का पानी इंसाफ़ करने का उत्तरदायित्व जिलापदाधिकारी पर बनता है ताकि मामले की वास्तविकता उजागर हो सके।

लेकिन , उर्वरक विक्रेता संघ और जिला कृषि पदाधिकारी के बीच छिड़ी आरोप प्रत्यारोप की लड़ाई का खामियाजा किसानों को भुगतना पड़े , यह किसी स्तर से उचित नहीं माना जा सकता है

उन्होंने कहा कि पूर्णिया जिले के सभी खुदरा उर्वरक विक्रेता हड़ताल पर चले गए हैं ।दुकानों के बंदी के चलते किसानों के बीच खरीफ फसलों की बुआई में बाधा पहुंच रहा है ।जबकि दूसरी ओर कोरोना महामारी की दहशत से पीड़ित किसान बाजारों में बीज एवं कीटनाशक दवाओं के लिए परेशान हैं।

समय पर बुआई एवं बीज तैयार नहीं होने से इसका सीधा असर ग्रामीण अर्थव्यवस्था पर पड़ेगा।

प्रोफेसर आलोक कुमार यादव ने बिहार केकृषि मंत्री  एवं जिला पदाधिकारी पूर्णिया से इस घटना में हस्तक्षेप कर अविलंब जांच कर उचित कार्रवाई करने की मांग करते हुए किसानों को सुलभता पूर्वक खाद बीज उपलब्ध कराने की मांग की है।