भारत में मस्जिदों को गिराना अब आसान खेल नही

क्राउन प्रिन्स मुहम्मद बिन सलमान और मोदी
फोटो – सऊदी अरब के क्राउन प्रिन्स मुहम्मद बिन सलमान और प्रधान मंत्री मोदी

मध्य एशिया के अरब देश सऊदी अरबिया ने भारत में हाल ही में हुए घटनाओं पर चिंता व्यक्त किया है और इस बाबत मध्य एशिया की सबसे बड़ी समाचार पत्र gulfnews  ने एक व्यापक रिपोर्ट छापी हैं.

जिसमें उसने कहा है. भारत में मुस्लिम समुदाय के ख़िलाफ़ हो रहे कार्यक्रम अब भारत का आंतरिक मामला नहीं है वह मुस्लिम समुदाय OIC का है अतः भारत चेतावनी को कड़े रूप में ले और मानवता को बरकरार रखने में भारत सहयोग करें

 हाल ही में हुए भारत के घटनाओं को देखें तो यह 200 मिलियन अल्पसंख्यक मुस्लिम के खिलाफ हिंदुओं के तरफ से तलवार और हथियार से हमले बढ़ गए हैं जो कि विश्व समुदाय के लिए चिंता का विषय है.  मुस्लिम जगत के सबसे बड़े ऑर्गेनाइजेशन ओआईसी जिसका हेड क्वार्टर सऊदी अरब के jeddah शहर में है अब तक चुप था लेकिन अब वह काफी कड़े लहजों  के साथ सामने आया है .

भारत में हुए भीषण घटना के दौरान दर्जनों निर्दोष मुसलमान नागरिकों को मौ’त के घाट उतार दिया गया और इसी के मद्देनज़र OIC ने कहा है की मोदी के द्वारा चलाए जा रहे भाजपा समर्थित सरकार में मुस्लिम समुदाय के ऊपर  ज़्यादती हो रही है, मस्जिद गिराए जा रहे हैं अतः भारत को मुस्लिम समुदाय और इस्लामिक पवित्र स्थानों के सुरक्षा के लिए कड़े कदम उठाने चाहिए.

OIC के बयान के बाद UN Human right के प्रमुख ने भी भारत में चल रहे नागरिकता कानून के ऊपर अपनी टिप्पणी की जिसमें उन्होंने कहा कि यह मुस्लिमों के साथ एक भेदभाव पूर्णकार्य है. 

इससे मुस्लिमों के ऊपर सुनियोजित ढंग से अ’त्या’चार करने में आसानी होगी और इसका सबसे हालिया उदाहरण दिल्ली में हुई घटनाएं हैं.

भारत में चल रहे शांतिपूर्ण शाहीन बाग आंदोलन के दरमियां भाजपा के नेता कपिल मिश्रा ने कई भड़काऊ भाषण दिए जिसके बाद हिंदुओं की बड़ी फौज उनके समर्थन में आ गई और शाहीन बाग को तितर-बितर करने के लिए बल प्रयोग करना शुरू किया जिसके फलस्वरूप हिंसा भड़क गई और दिल्ली का यह जातीय हिंसा की घटना घटित हुई .

इस बाबत हाल ही में ईरान ने भी एक बयान जारी किया था जिसमें भारत में मुस्लिमों के ऊपर सुनियोजित ढंग से हमला करने और उनके खिलाफ अ’त्याचार करने के आरोप लगाए थे.

नोट:  हमने आपको सिर्फ विदेश में क्या कहा जा रहा है, रूपांतरण दिखाया जो अरब देश से प्रकाशित होने वाले समाचार पोर्टल गल्फ न्यूज़ का था.