नियोजित शिक्षक सीतामढ़ी धरना

सीतामढ़ी में 437 शिक्षकों पर गिरी गाज, FIR के बाद सस्पेंड करने की अनुशंसा

नियोजित शिक्षक सीतामढ़ी धरना
फोटो -सीतामढ़ी में भी नियोजित शिक्षकों की हड़ताल जारी है. नियोजित शिक्षक अपनी मांग को लेकर अड़े हुए हैं और अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं

सीतामढ़ी से कलीम अख्तर शफीक की रिपाेर्ट

 बिहार में 17 फरवरी से नियोजित शिक्षकों की हड़ताल जारी है. नियोजित शिक्षक अपनी मांग को लेकर अड़े हुए हैं और अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं तो वहीं दूसरी तरफ सरकार भी अड़ी हुई है.

लगातार हड़ताली नियोजित शिक्षकों पर कार्रवाई की जा रही है. ताजा मामला सीतामढ़ी जिले का है जहां मूल्यांकन कार्य में बाधा डालने के आरोप में 437 शिक्षकों पर गाज गिरी है.

इस प्रक्रिया में कोताही बरतने वाले कई शिक्षकों को हटाया भी गया है. मामले की जानकारी देते हुए डीएम अभिलाषा कुमारी शर्मा ने बताया कि हर हाल में इंटर की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन 9 मार्च तक पूरा किया जाना है.

उन्होंने बताया कि जिले में मूल्यांकन कार्य चार केंद्रों पर चल रहा है. ऐसे 437 हड़ताली शिक्षक जिन्होंने कॉपी मूल्यांकन में योगदान नहीं किया है उनके खिलाफ अनुशासनिक कारवाई की जा रहीं है.

इनमें कई को निलंबित भी किया जा चुका है. उन्होंने बताया कि मूल्यांकन कार्य में प्रतिनियुक्ति के बावजूद जिन शिक्षकों ने अपना योगदान नहीं दिया है ऐसे 437 शिक्षकों के विरूद्ध थाने में प्राथमिक दर्ज कराकर उन्हें निलंबित करने हेतु संबंधित नियोजन इकाइयों को अनुशंसा भेज दी गई है.