बिहार मुख्य खबर राजनीती राज्य राष्ट्रिय

नवादा जिला के कई स्थानों पर नागरिकता कानून के खिलाफ अनिश्चितकालीन धरना जारी।

कामरेड कविता कृष्णन-नवादा
फोटो – कामरेड कविता कृष्णन नवादा के बुंदेला बाग़ के मंच से

नवादा से मोहम्मद सुल्तान अख्तर / मोहम्मद साजिद हुसैन की रिपोर्ट।

नवादा जिला के अंतर्गत विभिन्न जगहों पर धरना स्थल चल रहा है। जिसमें बुंदेला बाग नवादा शहर में है, उसका आज 33 वा दिन है,यह धरना 8 सस्यों की टीम से बनी कमेटी से चल रहा है।इस टीम के संचालक नदीम हयात हैं।

दूसरा धरना स्थल धमौल का समीद बाग का 23 वॉ दिन है। उसके संचालक कमरुल बारी धमौल वी हैं। और गुलजारबाग पकरी बरामा का 21 वा दिन है। गुलज़ार बाग़ धरना इंकलाबी फ़िक्री ग्रुप के अधीन चल रहा है। यह तीनों जगहों पर धरना बहुत ही पुरजोर तरीके से चल रहा है।

इन सभी धरना स्थलो पर कामरेड कविता कृष्णन सी पी आई पॉलिट ब्यूरो चीफ, सैयद मोसिहुद्दिन सामाजिक कार्यकर्ता नवादा, किष्ण देव कामरेड नवादा, नजीब अहमद उर्फ लड्डू, राजद अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के उपाध्यक्ष सभॊ मौजूद रहे । सभो ने बारी बारी अपनी अपनी बातें NPR के प्रति रखा।

लोगों को जागरूक किया। उन लोगो ने एनपीआर के सिलसिले में विस्तार रूप से बात की, और कहा कि असल एनपीआर है। एनपीआर में आपने कागज दिखा दिया, घर के लोगों का नाम बता दिया, तो आपका एनआरसी हो गया। एनपीआर में डी लिख देने का मतलब, डाउट फूल, आपके नाम की जगह डी लिख दिया जाएगा।

उसका मतलब यह होगा डाउटफुल। और उस डाउट फूल के अंतर्गत आप से कागजात मांगे जाएंगे, फिर डिटेंशन कैंप अनिवार्य हो जाएगा, अगर आप दुरुस्त कागजात देखा भी देते हैं।तो आपका पड़ोसी से नहीं बनता तो पड़ोसी आपकी शिकायत करके आप को डाउट फूल बना देगा। इतना खतरनाक कानून है।

इसलिए एनपीआर के सिलसिले में कोई भी कागजात कर्मचारी ना दिखाइए,और ना कोई जानकारी दीजिए,कर्मचारी अगर आए तो उसको रूह अफजा पिलाएं, लेकिन कोई कागज नहीं दिखाएं,यह स्लोगन नजीब अहमद उर्फ लड्डू का,अपने भाषण में था।

उन्होंने बड़ी सभा में कहा कि एनपीआर के सिलसिले में नीतीश कुमार जो मोतीचूर का लड्डू मुंह में लेकर खामोश बैठे हैं। उनको इस लड्डू को मुंह से निकालना पड़ेगा।

उनकी राजनीतिक ख़तम हो जाएगी। इस सिलसिले में उन्हें सब चीजों से अवगत होने के बावजूद यह बिहार की जनता के साथ धोखा देने का काम कर रहे हैं।

उन्होंने कहा था, कि हम संशोधन करेंगे, लेकिन जब बीजेपी के अमित शाह ने नहीं माना, तो उसी एनपीआर के फॉर्म को बिहार के सभी जिला पदाधिकारी को लेटर भेजकर 1 अप्रैल से एनपीआर का कार्य करने की सूचना दे दिया है।

जो बहुत ही निराशजनक और अफसोस जनक बात है। इसलिए बिहार की जनता से नजीब अहमद उर्फ लड्डू ने आग्रह करते हुए कहा है कि, कोई भी आदमी कोई भी कर्मचारी आए हर हाल में कागज नहीं दिखाएंगे। किसी भी चीज के लिए किसी को भी कोई कागज नहीं दिखाएंगे, इसको हर हाल में याद रखे, इस मौके पर तीनों जगह की धरना पर हजारों की संख्या में महिलाएं, मर्द, बच्चे मौजूद थे।