नवादा |धमौल |CAB/NRC के विरोध में जिला में विशाल मशाल जुलूस निकाला गया और लोगो ने शपथ लिया

CAB / NRC पर अमित शाह जी ने सरकार का नजरिया स्पष्ट कर दिया है की, किसी भी गैर मुस्लिम को घबराने की जरूरत नहीं है| मुसलमानों को छोड़कर सभी को नागरिकता दी जाएगी। मतलब सरकार का इरादा सीधे तौर पर मुसलमानों को टार्गेट करना है और उन्हें परेशान करना है।

फोटो – धमौल में CAB / NRC के विरुद्ध मशाल जुलुस
SULTAN-AKHTAR

नवादा से मोहम्मद सुलतान अख्तर की रिपोर्ट।

नवादा | धमौल | नागरिक संशोधन बिल के विरोध में असहयोग आंदोलन की शुरुआत नवादा के धमौल से राजद अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ अध्यक्ष कमरूल बारी धमौवी ने आज मशाल जुलूस निकाल कर किया ।

आप को बता दें के इस बिल के विरोध में देशव्यापी आंदोलन हो रहे हैं। ख़ास तौर से उत्तर पूर्व राज्यों के लोगों का प्रदर्शन बहुत तेज़ हो रहा है। यह बिल संविधान विरोधी है। इस से ग्रह युद्ध होने की आशंका जताई जा रही है।पूरे देश में एक अजीब सी बेचैनी पाई जा रही है।ख़ास तौर से भारत का मुस्लिम समाज ख़ुद को ठगा महसूस कर रहा है। पटना के अलग अलग हिस्सों में यह जुलूस निकाला गया है,इस जुलूस में शामिल लोगों का कहना है के यह बिल मुस्लिम विरोधी है।इस से अनार्की फैलने की आशंका है।इस लिए भारत सरकार इस बिल को वापस ले। और देश की चरमराती अर्थ्यवस्था पर अपना ध्यान केंद्रित करे।

संविधान की धज्जियाँ उड़ाने वाले नागरिकता संशोधन बिल जैसे काले क़ानून के ख़िलाफ़ राष्ट्रीय जनता दल 22 दिसंबर,रविवार को “बिहार बंद” करेगा।

सरकार उसी एजेंडे पर काम कर रही है जिसमे मुसलमानों के लिए कोई जगह नहीं है। अब 30 करोड़ मुसलमान न ही मारे जा सकते हैं और न भगाए जा सकते हैं इसलिए उन्हें डराया जा रहा है|

अब ये मुसलमानों पर निर्भर हैं कि वह क्या करें? वह कुछ भी करेंगे हर हाल में उनको परेशान किया जाएगा।

एक सीधा और सरल रास्ता है पूरे देश का मुसलमान NRC के खिलाफ असहयोग आंदोलन की शुरुआत करे। एक भी मुस्लिम NRC के लिए कोई भी कागज जमा नहीं करे। सरकार पूरे 30 करोड़ मुसलमानों को ना ही जेल में डाल सकती है और ना ही देश निकाला दे सकती है। वो NRC के फायदे बताएंगे और जब तुम NRC के लिए डॉक्युमेंट्स जमा करोगे तो फिर करोड़ों मुसलमानों को विदेशी कह कर प्रताड़ित किया जाएगा।

इसी कड़ी में धमौल बाज़ार की हजारो जनता इन दिनों लगातार सी ए बी बिल और एन आर सी बिल के विरूद्ध जुलूस निकाल रहा है, यह जुलूस पंजाब नेशनल बैंक धमौल से निकला और बाज़ार आते आते सभा में बदल गया। धमौल बाज़ार से होते हुए इमाम बारा धमौल में समापन हुआ।

इस में कमरूल बारी धमौलवी ने सभी को शपत दिलाया कि इस देश में हमलोग जबतक ज़िंदा रहेंगे देश की संविधान की रक्षा करते रहेंगे।उन्होंने यह भी शपत दियाला की देश के संविधान के साथ संशोधन करके सी ए बी और एन आर सी में हम लोग अपना अपना एन आर सी नहीं करवाएगे।

इसी क्रम में आज बिहार की राजधानी पटना के पटना सिटी इलाक़े में एक मौन जुलूस का आयोजन किया गया था, जिस में एजाज़उल्लाह खां, मोहम्मद महताब आलम, आदिल अहमद, अयाज़ उल हक़ और मोहम्मद इंतेखाब आलम आयोजक थे।

जुलूस में विशेष रूप से लाल इमली से शहज़ादा, सदर गली से मुमताज़, सुल्तानगंज से ख़ुर्रम मल्लिक, पटना यूनिवर्सिटी से JACP के महासचिव शौकत अली शामिल थे। जुलूस सदर गली से निकल कर पश्चिम दरवाज़ा पर ख़त्म हुई। जुलूस में लगभग 20 हज़ार लोगों ने अपनी भागीदारी सुनिश्चित की।

फुलवारी शरीफ पटना |बारिश के बावजूद हज़ारों की तादाद में आज – CAB NRC के विरोध में लोग सड़क पर उतरे

दुखहरनी फाटक गया |बारिश के बावजूद हज़ारों की तादाद में – आज CAB NRC के विरोध में गया के सड़क पर ज़ोरदार पर्दर्शन